डेविड

डेविड एब्राहम चेउलकर – (21 June 1909 – 2 January 1982) जो हमेशा एक अंकल या पिता सामान व्यक्ति की भूमिका में ही नज़र आये। हीरो हीरोइन के चहेते अंकल…. सिनेमा के परदे पर जब पिता आमतौर पर विलेन बन जाते थे, माहौल बोझिल हो जाता था तो अचानक कहीं से एक छोटे क़द के गंजे अंकल की एंट्री होती थी, और कुछ पलों के लिए पूरा माहौल हल्का फुल्का हो जाता था।

ये थे ज्यूइश-इंडियन एक्टर डेविड एब्राहम चेउलकर जो डेविड के नाम से मशहूर हुए। जिनकी ज़ोरदार हँसी, दोस्ताना व्यक्तित्व, और बोलने के एक ख़ास अंदाज़ ने उन्हें दर्शकों के बीच लोकप्रिय बना दिया। आज उनके जन्मदिन के मौक़े पर उन्हें याद करते हुए उनकी ज़िन्दगी पर एक नज़र।

डेविड का शुरूआती जीवन

डेविड का जन्म 1909 में 21 जून को हुआ। उनके पिता रेलवे में काम करते थे लेकिन जब वो सिर्फ़ 6 साल के थे तभी उनके पिता का इंतक़ाल हो गया था ऐसे में वो अपने बड़े भाई शेलोन के काफ़ी क़रीब आ गए। और फिर अपने भाई की इच्छा के मुताबिक़ पढ़-लिख कर वक़ील बनने की तैयारी में जुट गए। स्नातक के बाद ढेरों उम्मीदें लिए जब वो संघर्ष के मैदान में उतरे तो 6 लम्बे साल गुज़र गए पर स्ट्रगल था कि ख़त्म ही नहीं हो रहा था। इतने सालों की नाकाम कोशिशों से उनका आत्मविश्वास भी डगमगाने लगा था पर उन्होंने उम्मीद नहीं छोड़ी।

इस दौरान डेविड कभी-कभी स्टेज पर एक्टिंग कर लिया करते थे। क्योंकि अभिनय और स्टेज की दुनिया उन्हें हमेशा अपनी तरफ़ खींचती थी इसीलिए एक दिन उन्होंने फैसला किया कि वो अभिनय में ही अपना करियर बनाएंगे। उनके एक दोस्त थे नायमपल्ली जो फिल्मों में चरित्र कलाकार के तौर पर काम किया करते थे। उनकी मदद से डेविड को मोहन भवनानी के साथ काम करने का मौक़ा मिल गया। उनकी पहली फ़िल्म रही-ZAMBO – हाँलाकि उस समय वो युवा थे पर फ़िल्म में उनका रोल था एक बुज़ुर्ग व्यक्ति का, और वो इमेज ऐसे उनसे चिपकी की मुझे तो याद नहीं  पड़ता कि किसी फ़िल्म में उन्होंने कोई युवा किरदार निभाया हो।

डेविड

इन्हें भी पढ़ें – Women of Indian Cinema

डेविड को फ़िल्मी दुनिया हमेशा रोमांचित करती थी। उनका मानना था कि फ़िल्म स्टूडियो किसी विश्वविद्यालय जैसे ही होते हैं। जहाँ आपको हर तरह के अनुभव होते हैं , जहाँ लोगों के हाव-भाव और व्यवहार को समझने की क़ाबिलियत मिलती है। 1937 से 1940 तक का समय डेविड के लिए भी सीखने का रहा क्योंकि उन दिनों उन्होंने अभिनेता, सहायक निर्देशक, प्रोडक्शन मैनेजर से लेकर क्लैप-बॉय, क्लर्क और टेलीफोन ऑपरेटर तक का काम किया। लेकिन 1940 में उनका ये काम छूट गया— अब वो फिर से बेरोज़गार थे। पर इस बार उन्होंने कम तनख़्वाह पर दूसरी फ़िल्म कंपनी में काम करना शुरू कर दिया, लेकिन ये काम भी जल्दी ही छूट गया।

डेविड

काम छूटने और नया काम पाने की असफल कोशिशों के बीच डेविड ने अपनी वक़ालत की उस पढाई को पूरा करने का मन बनाया, जो उन्होंने फिल्मों में आने से पहले शुरू तो की थी पर बीच में ही छूट गई थी। फिर वक़ालत पूरी हुई और डेविड के नाम के साथ जुड़ गया BA LLB पर इससे काम पाने में कोई मदद नहीं मिली। इस दौरान फ़िल्म इंडस्ट्री बदलने लगी थी लोग अब स्टूडियो सिस्टम से अलग स्वतंत्र रूप से काम करने लगे थे।

इन्हें भी पढ़ें – Singers of Indian Cinema

फिल्मों में डेविड का सुनहरा दौर

डेविड भी काम तो कर रहे थे पर उनका अच्छा समय आया 50 के दशक में। इसी दशक में आई थी उनकी यादगार फ़िल्म “बूट पॉलिश” जिन्होंने भी ये फ़िल्म देखी होगी वो जॉन चाचा को भूले नहीं होंगे। उनका ये रोल इतना प्रभावशाली था कि वो जॉन चाचा के रूप में ही मशहूर हो गए थे और इस के लिए उन्हें फ़िल्मफ़ेयर का सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का पुरस्कार भी मिला। इस फ़िल्म में उनके साथ बेबी नाज़ और मास्टर रतन के अभिनय को भी बेहद पसंद किया गया।

डेविड

फ़िल्मों में डेविड का बेहतरीन समय आया 1950 के मध्य से जब डेविड एक समय में 4-5 फिल्में कर रहे थे। जैमिनी और AVM स्टूडियोज की लगभग हर हिंदी फ़िल्म में उनका होना तय था। इसी तरह ऋषिकेश मुखर्जी, बासु चैटर्जी जैसे फिल्मकारों की फ़िल्मों में भी उनके लिए ख़ास रोल होता था। इससे पहले उन्होंने ख़्वाजा अहमद अब्बास की भी कई फिल्मों में काम किया। तो 1950 से 1975 तक वो फ़िल्मों में छाए रहे।

बहुमुखी प्रतिभा के धनी डेविड

अभिनय उनकी शख़्सियत का सिर्फ़ एक पहलू है, और बहुत कुछ है ऐसा जिसके बारे में लोग बहुत कम जानते हैं। डेविड अपने समय के बेहद मशहूर स्टेज एंकर, प्रस्तोता और होस्ट थे। ज़्यादातर फ़िल्म, खेल और सामाजिक समारोह उनके बग़ैर अधूरे माने जाते थे। पंडित जवाहरलाल नेहरू भी उनके प्रशंसक थे, उनका मानना था कि डेविड के बगैर समारोह अधूरा सा लगता है। 

डेविड
डेविड और पंडित जवाहरलाल नेहरू

स्पोर्ट्स में डेविड और उनके परिवार की रूचि हमेशा से रही थी। उनके पिता एक कामयाब रेसलर थे, पर डेविड को शौक़ था वेट लिफ़्टिंग का। वो मुंबई महाराष्ट्र की वेट लिफ़्टिंग फेडरेशन के प्रेज़ीडेंट रहे, भारतीय वेट लिफ़्टिंग फेडरेशन के वाईस प्रेज़ीडेंट रहे, साथ ही वो इंडियन ओलम्पिक कमेटी के साथ भी जुड़े रहे। इन सब कामों से उनकी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी पहचान बनी और उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय वेट लिफ़्टिंग फेडरेशन के लिए भी काम किया। 1975 में उन्हें इसके लिए स्पेशल अवार्ड भी दिया गया। 

पद्मश्री से सम्मानित डेविड को पढ़ने का बहुत शौक़ था उनकी एक बेहद उम्दा निजी लाइब्रेरी भी थी। यूँ तो वो आजीवन अविवाहित रहे पर अपने परिवार और खानदान से हमेशा जुड़े रहे। बाद में उनके ज़्यादातर परिवार वाले इज़राइल जाकर बस गए तब उन्होंने भी अपने भतीजे और भांजी के पास कनाडा जाने का फ़ैसला किया, वहां जाकर भी उनका उत्साह कम नहीं हुआ।

वहाँ उन्होंने एक फ़िल्म बनाई-LOVE IN CANADA , कई नाटकों में अभिनय किया, एक डॉक्यूमेंट्री फ़िल्म बनाई और कई स्टेज शोज़ किये। वो कई यूरोपीय और भारतीय भाषाएँ बोल लिया करते थे। डेविड ने 40 सालों में क़रीब ढाई सौ फ़िल्मों में काम किया, इनमें अन्तर्राष्ट्रीय फ़िल्म THE RIVER और NINE HOURS TO RAMA भी शामिल है। 

डेविड
डेविड की क़ब्र

डेविड की मृत्यु

27 दिसंबर 1981 को उन्हें स्ट्रोक आया और 2 जनवरी 1982 को उन्होंने हमेशा-हमेशा के लिए आँखें मूँद लीं। आज भले ही डेविड हमारे बीच नहीं हैं पर उनके निभाए किरदार ख़ासकर दोस्त-अंकल के रूप में उन्हें हमेशा याद किया जाता रहेगा। 

English Translation Of this Article

Here is the Google translation of this article for your convenience. Please Ignore technical and grammatical errors because Google sometimes gets confused about little things so please ignore it.

David Abraham Cheulkar – (21 June 1909 – 2 January 1982) always appeared in the role of an uncle or father figure. Hero heroine’s favorite uncle…. When the father usually became a villain on the screen of the cinema, the atmosphere became burdensome, then suddenly there was an entry of a bald uncle of small stature, and for a few moments, the whole atmosphere was light. It was light. This was the Jewish-Indian actor David Abraham Cheulkar who became famous as David. His loud laughter, friendly personality, and distinctive manner of speaking made him popular with the audience.

David was born in 1909 on June 21. His father used to work in the railways, but when he was only 6 years old, his father died, so he came very close to his elder brother Shalon. And then according to his brother’s wish, he started preparing to become a lawyer after studying and writing. After graduation, when he entered the field of struggle, 6 long years passed, but the struggle was that it was not ending. After so many years of unsuccessful efforts, his confidence had also started to shake, but he did not give up hope.

During this, David sometimes used to act on stage. Because the world of acting and stage always attracted him, one day he decided that he would make his career in acting. He had a friend Nayampally who worked as a character artist in films. With their help, David got an opportunity to work with Mohan Bhavnani. His first film was ZAMBO – although he was young at that time, his role in the film was that of an old man, and that image stuck to him in such a way that I do not remember that he played a young character in any film.

The film world always fascinated David. He believed that film studios are like a university. Where you have all kinds of experiences, where you get the ability to understand the gestures and behavior of people. The period from 1937 to 1940 was also a time of learning for David as he worked in those days from actor, assistant director, and production manager to clap-boy, clerk, and telephone operator. But in 1940 he lost his job—now he was unemployed again. But this time he started working in another film company on a low salary, but this work too was soon abandoned.

His good times came in the 50s. His memorable film “Boot Polish” came in this decade, whoever would have seen this film would not have forgotten John Chacha. His role was so influential that he became famous as John Chacha and for this he also received the Filmfare Best Supporting Actor Award.

David’s best time in films came from the mid-1950s when David was doing 4-5 films at a time. He was destined to be in almost every Hindi film of Gemini and AVM Studios. Similarly, films by filmmakers like Hrishikesh Mukherjee, Basu Chatterjee also had a special role for him. Before this, he also worked in many films of Khwaja Ahmed Abbas. So from 1950 to 1975, he dominated films.

Acting is just one aspect of his personality, and there is a lot that people know very little about. David was a very famous stage anchor, presenter, and host of his time. Most films, sports, and social functions were considered incomplete without him. Pandit Jawaharlal Nehru was also his admirer, who believed that without David, the ceremony seemed incomplete.

David and his family had always been interested in sports. His father was a successful wrestler, but David was fond of weight lifting. He was the President of the Weightlifting Federation of Mumbai Maharashtra, Vice President of the Weightlifting Federation of India, as well as he was associated with the Indian Olympic Committee. All these works made her internationally recognized and she also worked for the International Weightlifting Federation. In 1975, he was also given a special award for this.

Padma Shri awardee David was very fond of reading, he also had a very good personal library. Although he remained unmarried throughout his life, he was always attached to his family and family. Later, most of his family members settled in Israel, then he also decided to go to Canada with his nephew and niece, even after going there his enthusiasm did not diminish.

There he made a film – LOVE IN CANADA, acted in several plays, made a documentary film, and did several stage shows. He spoke many European and Indian languages. David acted in over two hundred and fifty films in 40 years, including the international film THE RIVER and NINE HOURS TO RAMA.

On 27 December 1981 he suffered a stroke and on 2 January 1982, he closed his eyes forever. Even though David is no more with us today, he will always be remembered for the character he played, especially as a friend-uncle.

By Neetu

Neetu Sharma is working in different fields of media for more than 21 years. Painter turned TV Host, Radio Jockey, Content Writer, and now YouTuber, and blogger.

Leave a Reply

Your email address will not be published.